Saturday, March 4, 2017

कोलकाता का एक छुपा स्थल → तेरेत्ति बाजार (About Tiretti Bazar, Kolkata by Kishan Bahety )

Guest Post Written by Kishan Bahety

#City of Joy, Kolkata
#Teritti Bazar 

कालीकट ,कलकत्ता और कोलकाता समय चक्र में कोलकाता के नाम बदलते रहे पर नहीं बदला तो उनका मस्तमौला की तरह घुमक्कड़ी का अंदाज । कोलकाता में कई ऐसी जगह घूमने की या देखने की है, जहाँ साधारण सैलानी नहीं जाते या ये हम कह सकते है कि ये जगह उनके लिए साधारण है क्योकि टूरिज्म सरकार इस जगह पर ध्यान नहीं देती । सिर्फ विक्टोरिया, कालीघाट और एक दो जगह ही कोलकाता का प्रतिबिम्ब बनकर रह गयी है, सो मै और संदीप मन्ना ने उन जगहों पर घूमने का विचार बनाया जो इसी खोज में हमे कोलकाता के कई ऐसी जगहो के बारे में पता चला जहाँ कम सैलानी या ये कह सकते है सिर्फ घुम्मकड या विदेशी सैलानी ही जाते है । आज के लेख में आपको ले चलते है चाइनीज खानपान के सामान के बाजार में जहाँ पर चाइना शरणार्थी लोग ही ये बाजार लगाते है उस बाजार का नाम है तेरेत्ति बाजार -

तेरेत्ति का चाईना खानपान का बाजार, कोलकाता  (  Tiretti Bazar, Kolkata )

आज हमने कोलकाता के दिल में बसे तेरेत्ति बाजार,  चीनी बाजार घूमने का विचार बनाया । कोलकाता की एक और खाशियत है यहाँ ब्रिटिश शासन काल में और कई देशो के लोगो ने अपना व्यवसायिक गढ़ बना रखा था । जिसमे डलहौजी में अंग्रेज बसे थे तो बर्मन रोड पर पुर्तगीज, चन्दनगर में डच तो तेरेत्ति में चीनी और जापानी लोग बसे थे । ये चीनी लोग द्वितीय विश्व युद्ध के समय समुद्री कोलकाता में कदम रखे, जिनमे से कुछ यही बस गए थे। इनका पहले मुख्य व्यवसाय चमड़े का था, पर सरकार की नीच नीतियों के कारण ये व्यवसाय इन अल्पसंख्यको के हाथो से निकल कर उनके चहेते समुदाय के लोगो के हाथ में सिमट कर रह गया । ये चीनी के बारे में जानने के लिए और नयी जगह की खोज में , में और मन्ना रविवार की सुबह ६ बजे घर से निकले । सुबह इसलिए की प्रति रविवार ये लोग यहाँ एक हाट की तरह लगाते है , जहा प्रसिद्ध चीनी खाने -पीने के व्यंजन आपको मिल जायेगे । इसके अलावा यहाँ दो चीनी बुध मन्दिर भी है, जहाँ रविवार को खास पूजा होती है ।

मन्ना और मै घर से ६ बजे निकलकर करीबन ६.३० बजे तक गिरीश पार्क मिले जो इस चीनी बाजार से 5 मिनट दूर है । यहाँ से मन्ना की बाइक पर सवार होकर सीधे चाइना बाजार पहुच गए
।  तेरेत्ति बाजार कोलकाता के प्रमुख व्यवसयिक स्थल में से एक है रविवार को यहाँ इन चीनी लोगो का बाजार या हाट लगता है । यहाँ पहुँच  कर पहले हमने पेट पूजा करने की सोची फिर चीनी मन्दिर जाने की, चूँकि यहाँ ज्यादातर खाने के व्यंजन मांसाहारी थे, तो मैंने तो आज के समय के प्रसिद्ध व्यंजन मोमो से अपना काम चलाया और मन्ना बाबु ने रोल का मजा लिया।  वहा खड़ी महिला दुकानदार से पता चला की ये हाट करीबन १०० सालो से चल रहा है । पर वर्तमान सरकार अपने चहेते समुदाय के लोगो को यहाँ बसाने के चक्कर में इन अल्पसंख्यक चीनी लोगो को हटाने पे तुली है। शायद कुछ सालो बाद ये हाट और चीनी मन्दिर इतिहास बनकर रह जाये

क्या सिर्फ पत्थरों से बनी दिवार ही घुमने या देखने की होती है , क्या सिर्फ इनके लिए सरकार और पुरातत्व की जिम्मेवारी है
। क्या इनके प्रति किसी की कोई जिम्मेवारी नहीं


चलिए अब देखते इस सुन्दर स्थल को चित्रों की जुबानी →

तेरेत्ति का चाईना खानपान का बाजार, कोलकाता  (  Tiretti Bazar, Kolkata )

तेरेत्ति का चाईना खानपान का बाजार, कोलकाता  (  Tiretti Bazar, Kolkata )

तेरेत्ति का चाईना खानपान का बाजार, कोलकाता  (  Tiretti Bazar, Kolkata )

तेरेत्ति का चाईना खानपान का बाजार, कोलकाता  (  Tiretti Bazar, Kolkata )

तेरेत्ति का चाईना खानपान का बाजार, कोलकाता  (  Tiretti Bazar, Kolkata )

तेरेत्ति का चाईना खानपान का बाजार, कोलकाता  (  Tiretti Bazar, Kolkata )
Chinese Breakfast at Tiretti Bazaar in Kolkata
तेरेत्ति का चाईना खानपान का बाजार, कोलकाता 

चलिए उपरोक्त जानकारी के साथ कोलकाता के इस छुपे हुए बाजार के बारे में इस लेख का समापन करता हूँ   । आशा करता हूँ , आपको इस नई जगह के बारे पढ़कर अच्छा लगा होगा । अगले भाग में आप लोगो को ले चलेंगे कोलकाता के एक और छुपे स्थल की सैर पर । इसी के साथ आप सभी बहुत बहुत धन्यवाद  ।
(C) किसन बाहेती

My Another post on this Blog...

1. रींचेनपोंग- सिक्किम... Rinchenpong, Sikkim → A Hidden Place, Information by Kishan Bahety. 
2. 108 शिव मंदिर समूह, वर्धमान (108 Shiva Temple at Nawab hat, Bardhaman, West Bengal)
3. कोलकाता का एक छुपा स्थल → तेरेत्ति बाजार (About Tiretti Bazar, Kolkata by Kishan Bahety )
4. सी आईपी चर्च और टोंग ऑन चर्च - कोलकाता (Kolkata- Sea Ip Church & Tong on church by Kishan Bahety) 


7 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "ट्रेन में पढ़ी जाने वाली किताबें “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. वाह..
    नई जानकारी
    सादर

    ReplyDelete
  3. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है http://rakeshkirachanay.blogspot.in/2017/03/9.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. पहले कभी नहीं सुना ये नाम । धन्यवाद किशन जी एक नई जगह से परिचित कराने के लिए

    ReplyDelete
  5. किशन जी मजा आ गया पढ कर, व जगह को देखकर

    ReplyDelete

ब्लॉग पोस्ट पर आपके सुझावों और टिप्पणियों का सदैव स्वागत है | आपकी टिप्पणी हमारे लिए उत्साहबर्धन का काम करती है | कृपया अपनी बहुमूल्य टिप्पणी से लेख की समीक्षा कीजिये |

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Popular Posts