Search This Blog

Friday, April 28, 2017

गुलमर्ग - विश्वप्रसिद्ध पर्वतीय स्थल की सैर (Travel to Gulmarg, Kashmir...6)

Written By Ritesh Gupta

इस श्रंखला को प्रारम्भ से पढ़ने के लिए यहाँ पर क्लिक कीजिये । मूलतः सम्पूर्ण कश्मीर में प्राकृतिक सुदंरता चारो तरफ बिखरी पड़ी हुई है - पर कहते है की गुलमर्ग उनमे से सबसे सुन्दर जगहों में से एक मन जाता है । गुलमर्ग मुख्यतः दो शब्दों के मेल से बना है, गुल अर्थात "फूल" और मर्ग मतलब "मैदान" इस हिसाब से गुलमर्ग को फूलो की मैदान माना गया है । वैसे गुलमर्ग में प्राकृतिक सुन्दरता चहुँ और बिखरी पड़ी हुई, हरी घास का एक बड़ा मैदान, हिमान्छिदित पहाड़ियां, मोहक वातावरण, शुद्ध जलवायु । चलिए कश्मीर यात्रा श्रंखला की इस भाग में आपको लिए चलते है गुलमर्ग की सैर पर :-

गुलमर्ग के मुख्य हरे भरे मैदान की एक छोटी से पहाड़ी पर एक मंदिर ( A Shiv Temple at Gulmarg Green Field)

Monday, April 3, 2017

शीतकाल में गंगोत्री धाम की यात्रा (Travel to Gangotri in winter by Anil Dixit)

Guest Post Written by Anil Dixit
गंगोत्री : हमारा एक फेसबुक ग्रुप है, "घुमक्कड़ी दिल से" इसी नाम से व्हाट्सअप पर भी ग्रुप है । इस ग्रुप में हमारे एक बहुत घुमक्कड़ मित्र है श्री अनिल दीक्षित जी । अनिल जी करावल नगर, दिल्ली के रहने वाले है और इन्हें पहाड़ो पर घूमना और ट्रेकिंग करना बहुत पसंद है । इन्हें जब भी मौका मिलता है तभी ये तूफान की रफ़्तार से घूमने निकल पड़ते है, उत्तराखंड घूमना इन्हें बहुत पसंद है । आज के इस लेख में अनिल जी अपनी लेखनी से हाल ही के दिनों में शीतकाल में भ्रमण की गयी गंगोत्री यात्रा वर्णन कर रहे है । चलिए चलते है गंगोत्री की यात्रा पर अनिल जी की जुबानी : -
 
गंगोत्री मंदिर ( Gangotri Temple at Winter Time)

Tuesday, March 7, 2017

सी आईपी चर्च और टोंग ऑन चर्च - कोलकाता (Kolkata- Sea Ip Church & Tong on church by Kishan Bahety)

 Guest Post Written by Kishan Bahety

#hiddenplaces
#City of Joy, Kolkata
#Sea IP Church
#Tong on Church

पिछली पोस्ट में मैंने आप सब लोगो को कोलकाता के एक बहुत पुराने से समय से चल रहा चीनियों के अनोखे बाजार के बारे में बत्ताया था । अब आपको लिए चलते है इसी बाजार के आसपास के बुद्ध मंदिर और चर्च की सैर पर । तेरेत्ति चाइना बाजार से पेट पूजा करके मै और मेरे मित्र संदीप मन्ना चीनी बुद्ध मन्दिर देखने के तैयार हो गए  सही जगह हमे भी पता नहीं थी । सो हमने एक आंटी जो मोमोज बेच रही थी उनसे इसके बारे में पूछा, उन्होंने हमे दो गली बाद ही चर्च है ऐसा बताया गया । मुख्यत बौद्ध मन्दिर को गोम्पा या मोनेस्ट्री कहा जाता है पर चर्च शब्द सुनकर हमे भी बहुत आश्चर्य हुआ । चूँकि मन्दिर बगल में ही था सो हमने बाइक को वही पार्क करके पैदल ही चर्च देखने के लिए निकल पड़े ।

"टोंग ऑन चर्च" Tong on Church
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Ad.

Popular Posts