Search This Blog

Thursday, May 25, 2017

श्रीनगर की सैर - कश्मीर (Local Tour to Srinagar, Kashmir... 8)

Written By Ritesh Gupta

इस श्रंखला को प्रारम्भ से पढ़ने के लिए यहाँ पर क्लिक कीजिये । "सुहाना सफर और ये मौसम हसीन, हमे डर है की हम खो न जाए कही "इस गीत के बोल कश्मीर की वादियों में विचरण करते समय सटीक बैठती है ।कश्मीर के मुख्य नगर श्रीनगर में मुगलों के प्रभाव अपने समय में काफी रहा था सो यहाँ पर उन्होंने और उनके अनुयायियों ने इस नगर में काफी बाग़ और बगीचे विकसित किये थे । उन्ही बागो में से एक है श्रीनगर का सबसे बड़ा और विख्यात बाग़ "निशात बाग" (Mughal Garden Nishat) जिसे मुगल गार्डन भी कहते है । चलिए चलते है आज की पोस्ट के माध्यम से श्रीनगर की सैर पर -

"निशात बाग" में पैदल चलने का स्थान  (Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)
यात्रा पांचवा दिन (27 जून ) दूसरा पहर
गुलमर्ग से निकलने के बाद तंगमर्ग नाम की जगह पर एक निजी फल का बगीचा देखने के बाद हम लोग दोपहर के लगभग तीन बजे तक श्रीनगर की डल झील तक पहुँच गये थे । इस समय श्रीनगर शहर मौसम थोडा गर्म बना  था और सूर्य देव अपनी पूरी तरह खुलकर अपनी रौशनी इस घाटी में फैला रहे थे । सूरज की तेज रौशनी में डल झील बहुत सुन्दर नजर आ रही थी, नीला आसमान और झील का पानी भी नीला नजर आ रहा था । इक्का दुक्का शिकारे झील में नजर आ रहे थे, झील की तरफ का बाजार भी अलसाया हुआ ही सा था, चहल पहल भी कम ही  थी । आजकल रोजे चल रहे थे सो स्थानीय जनता लगभग उसी में व्यस्त थी । अभी भी हमारे पर समय काफी बचा हुआ था सो पूर्वनियोजित और समय का सदुपयोग करते हुए हम लोगो ने डल गेट से गाड़ी वाले को निशात बाग (Mugal Garden, Nishat) चलने को कहा ।

"निशात बाग़ " डल झील के किनारे झील के पूर्वी भाग में बौलेवार्ड मार्ग (Bouleward Road, Srinagar) पर ही डल गेट नम्बर एक से करीब नौ किमि० दूर स्थित है । डल झील के किनारे-किनारे गाड़ी से चलते हुए कुछ मिनिटो में हम लोग निशात बाग़ पहुँच गये । बाग से कुछ दूरी पर ही गाड़ी रोक दी गयी क्योकि वहां पर गाडी खड़ी करनी की कोई व्यवस्था नही थी सो ड्राइवर ने हम सब लोगो को वही उतारकर गाड़ी लेकर कही खड़ी करने चला गया । निशात बाग़ के सामने झील की तरफ एक छोटा खाने पीने का अच्छा खासा बाजार विकसित था और एक तरफ झील के किनारे विभिन्न सामान और हेंडलूम का पक्का बाजार भी था । बाग़ में जाने से पहले इसी बाजार से कुछ पेट पूजा की गयी । पानीपुरी, तरबूज, फालूदा, आइसक्रीम आदि का स्वाद यहाँ पर लिया गया उसके बाद बाग़ देखने हम सभी लोग चल दिए । 

निशात बाग़ को मुगल गार्डन भी कहते है ये श्रीनगर सबसे बड़ा बाग़ शालीमार बाग़ के बाद दूसरा बड़ा बाग है । इस बाग़ को 1633 में मुमताज महल के पिता हसन आसफ खान और नूर जहान के भाई द्वारा बनवाया था । उर्दू का शब्द "निशात" का अर्थ है खुशिया सो इसे हम इसे "खुशियों का बाग" भी कह सकते है । इस बाग़ में बेहद दुर्लभ किस्म के फूलो के पौधे, चिनार, सुरु और फलो के पेड़ पाए जाते है । डल झील के किनारे श्रीनगर के जबारवान पर्वत के आँचल में ये बाग़ सीढ़ीदार शैली में निर्मित है । कुल मिलाकर 12 सीढ़ीदार तल पर इस बाग़ का निर्माण किया गया है । बाग में प्रवेश कुछ सीढ़ियाँ चढ़कर  किया जाता है यहाँ पर स्वागत करता है बाग़ से बहकर आया एक खूबसूरत गिरता हुआ झरना और उसके आसपास व्यवस्थित बगीचा फल और फूल का बगीचा । सबसे ऊपर वाली तल पर पहाड़ से आये पानी के स्त्रोत से एक जगह कुंड में पानी एकत्रित किया जाता है फिर इस पानी को बाग़ के बिल्कुल बीच से एक झरने के रूप में नीचे तक जाने दिया जाता है । इस बहते झरने के बीच बीच में फुव्वारे भी लगे हुए हुए जो पानी को ऊपर की तरफ छोड़ते हुए बड़े सुन्दर प्रतीत होते है । झरने के दोनों तरफ घास के लॉन विकसित है और किनारों पर फूलो की कई तरह प्रजातियों के पौधे लगे हुए है, जो शायद हमे पहाड़ी स्थलों पर ही देखने को मिलते है । निशात बाग़ से दूर तक डल झील और बर्फ से ढकी पीर पंजाल पर्वतश्रेणी की पहाड़ियों के नयनाभिराम द्रश्य दिखाई देता है । जिस तल से झरना नीचे की तरफ गिरता है ठीक उसके ऊपर एक बड़े पत्थर से बैठने का स्थान बनाया गया है जहाँ पर सैलानी बैठकर व् खड़े होकर अपनी यादो को कैमरे में कैद करके ले जाते है । बाग़ में स्थानीय लोग किराए पर कश्मीरी वस्त्र भी उपलब्ध करवाते है जिसे पहन का यहाँ की वेशभूषा में अपनी यादो को कैमरे में कैद किया जा सकता है ।


निशात बाग़ के अन्दर जाने के लिए प्रवेश शुल्क लगता है जो बगल की ही एक छोटी खिड़की से प्रवेश टिकिट प्रति व्यक्ति रूपये 20 हिसाब खरीदी गयी, ये प्रवेश शुल्क कुछ दिनों पहले ही बढाया गया था पहले प्रति व्यक्ति रूपये 10/- शुल्क लगता था । बाग़ में प्रवेश करने के बाद धूप तेज होने के कारण कुछ लोग सुस्ताने के लिए एक बड़े पेड़ की छाँव में हरी घास के लॉन में बैठ गये और कुछ लोग चहल कदमी करने और फोटो खीचने में व्यस्त हो गये । जब हम लोग लॉन में बैठे हुए थे उस समय मेरी बेटी मेरा मोबाइल लेकर फूलो की फोटोग्राफी करने चल दी, जब वापिस आई तो देखा उसने वाकई में फूलो के बहुत सुन्दर चित्र खिचे थे, जो नीचे इसी पोस्ट में लगाये गये है । कुछ देर आराम करने के बाद बाग़ के सैर करने के लिए ऊपर की तरफ चल दिए, कई लोग झरने के पानी मस्ती कर रहे थे तो कुछ पानी उछालकर अपनी ख़ुशी का इजहार कर रहे थे । हम लोग भी इसी तरह बाग़ की खूबसूरती का लुत्फ़ ले रहे थे, जगह बदल बदलकर कई कोण से अपने कैमरे से चित्र भी लिए । ये बाग़ काफी बड़ा था, हम लोग केवल पांचवे या छटे तल ही गये उसके बाद इस बाग़ से वापिसी की राह पकड ली । मेरी नजर में ये बाग़ बहुत खूबसूरत और कुछ समय अपने लोगो के साथ बिताने का उत्तम स्थान लगा । 

बाग़ से निकलने के बाद कुछ देर में ही हम लोग गाड़ी से वापिस डल लेक के गेट न 4 पर आ गये । श्रीनगर में हाउसबोट केवल आजतक ही आरक्षित था और साथ के हमारे साथी मुकेश भालसे जी का श्रीनगर में अंतिम दिन था और कल सुबह उनके वापिस जम्मू के लिए निकलना था सो वो तो अपने परिवार के साथ शिकारे से डल झील की सैर पर चले गये, बाकी अपने परिवार के लोगो को आराम करने के लिए हाउसबोट में भेज दिया । अब हमे कल के लिए सड़क पर ही एक होटल में कुछ कमरे बुक करने थे सो गाड़ी के ड्राइवर से पूछा, उसने किसी से बात भी फिर मैं और अनुज (छोटा भाई ) ड्राइवर के साथ चल दिए । वो हमे श्रीनगर के पुराने शहर की तरफ लेकर चल दिया । वहां पर कुछ होटल और उनके कमरे देखे तो पसंद नही आये कारण ये की एक तो डल झील से काफी दूर थे दूसरा बजट से ऊपर भी थे सो वापिस डल झील के पास आ गये । डल झील के पास एक सामने की सड़क के अंदर एक होटल (Hotel Dawn) में कल के लिए चार कमरे बुक कर दिए, इसी काम में हमे काफी समय लग गया ।

आठ बजे के आसपास सभी लोग हाउसबोट से आकर शिकारा स्टैंड डल गेट न चार  के पास एकत्रित हो गये । कुछ देर झील के किनारे ही टहलते रहे है और वहां के स्थानीय बाजार की रौनक में शामिल भी हुए । नौ बजे के आस पास स्टैंड के सामने की ही सड़क पर एक शाकाहारी रेस्तरा से रात्रि भोज किया । एक बात तो है यहाँ पर हम लोगो ने जहाँ भी खाना खाया सभी जगह स्वादिष्ट और विभिन्न प्रकार का खाना आसानी से उपलब्ध हो गया था । कश्मीर में कल हमारा एक दिन और बाकि था और तय कार्यक्रम के अनुसार सुबह जल्दी उठकर सोनमर्ग भ्रमण का था और मुकेश भालसे जी को जम्मू रवाना होना था सो जल्द ही वापिस हाउसबोट में आकार आराम करने चले गये । हाउसबोट में आकर नींद नही आ रही थी सो उसके डेक पर आकर बैठ गया, झील का झलझलाता पानी और उस पानी मे सड़क की ईमारतो और स्ट्रीट लाईट रौशनी का प्रतिबिंब बड़ा अच्छा लग रहा था । दिन में जितनी गर्मी थी उसके विपरीत रात का मौसम बहुत ही रूमानी था, ठंडी हवा के झोंके मन को सहला रहे थे, ऐसा लगा जैसे कही खो सा गया हूँ । अंत में करीब एक या डेढ़ घंटा यूँही बैठने के बाद सोने के लिए चला गया ।

वैसे काफी कुछ हम लोग श्रीनगर में घूम लिए थे जिसका ब्यौरा पिछली और आज की पोस्ट में दे दिया गया, कुछ स्थल अभी भी देखने से रह गये जिन्हें बाद के लिए छोड़ दिया हमने की फिर कभी अगले बार जब भी श्रीनगर आयेंगे तब देख लेंगे । श्रीनगर और इसके आसपास के दर्शनीय स्थल निम्न प्रकार है - 

श्रीनगर के दर्शनीय स्थल (Tourist Attraction Place in Srinagar, Kashmir)

1. शंकराचार्य मंदिर (Shankrasharya Temple)
2. डल झील ( Dal Lake)
3. ज्येष्ठा देवी मंदिर (Zestha Devi Temple)
4. परी महल  (Pari Mahal)
5. चश्मे शाही  (Chashme Shahi)
6. टूलिप गार्डन (Tulip  Garden )
7. निशात बाग -मुग़ल गार्डन (Nishat Mughal Garden)
8. शालीमार बाग (Shalimar Garden )
9.  चार चिनार (Char Chinar)
10. नगीन झील (Nagin Lake -A Part of Dal Lake)
11. नेहरु पार्क (Nehru Park)
12. हजरतबल मस्जिद (Hajratbal Mosque)
13. जामा मस्जिद ( Jama Masjid) 
14. मानसबल झील (Manasbal Lake)
15. सेब का बाग (Apple Garden)
16. डल झील का तैरता बाजार (Floating Market in Dal Lake)
17. शिकारा की सैर (Shikara Ride )
18. बादामबाड़ी (Badambadi)

श्रीनगर के आसपास के स्थल - (Tourist Attraction Place near by  Srinagar, Kashmir)
1. वूलर झील (Wular Lake)
2. गुलमर्ग (Gulmarg)
3. सोनमर्ग (Sonmarg)
4. खीर भवानी मंदिर (Kheer Bhawani Temple )
5. पहलगाम (Pahalgam )
6. अमरनाथ जी (Amarnath ji Cave)
7. यूसमर्ग (Yousmarg )
8. दचिगम राष्ट्रिय उद्यान  (Dachigam National Park)


इस यात्रा लेख सम्बन्धित चित्रों का संकलन आप लोगो के प्रस्तुत है →
निशात बाग़ जाते हुए रास्ते से डल का नजारा (Dal Lake)
"निशात बाग" का मुख्य प्रवेश द्वार  (Entrance Gate of Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)
"निशात बाग" जिसे मुगल गार्डन भी कहते है (Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)
"निशात बाग" और डल झील का नजारा (Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

"निशात बाग" की खूबसूरती  (Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

"निशात बाग" मे फुव्वारे और झरने का सौन्दर्य (Fountain Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)
सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)
सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

"निशात बाग" जिसे मुगल गार्डन भी कहते है (Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

एक फुव्वारा

"निशात बाग" मे फुव्वारे और झरने का सौन्दर्य (Fountain Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

"निशात बाग" मे फुव्वारे और झरने का सौन्दर्य (Fountain Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

"निशात बाग" मे फुव्वारे और झरने का सौन्दर्य (Fountain Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

बाग़ में  किराए पर उपलब्ध स्थानीय वस्त्र (Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

"निशात बाग" और डल झील  (Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)

"निशात बाग" जिसे मुगल गार्डन भी कहते है (Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh, Srinagar)
सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh)
सुन्दर फूल जो हमेनिशात बाग़ में मिले (Beautiful Flower at Nishat Bagh)

झरना "निशात बाग" (Mughal Garden Nishat, Srinagar, Kashmir)

अंदरूनी श्रीनगर शहर के कुछ द्रश्य (Local Srinagar)

अंदरूनी श्रीनगर शहर के कुछ द्रश्य (Local Srinagar)

अंदरूनी श्रीनगर शहर के कुछ द्रश्य (Local Srinagar)

झेलम नदी - अंदरूनी श्रीनगर शहर के कुछ द्रश्य (Local Srinagar)
हाउसबोट का एक फानूस

ये थे हमारे कश्मीर यात्रा के पांचवे दिन के दूसरे पहर के यात्रा का लेखा जोखा, अब इस लेख को यही समाप्त करते है मिलते कश्मीर यात्रा के एक नये लेख साथ और सैर पर चलेंगे सोनमर्ग की ।  आप लोगो यह लेख अवश्य पसंद आया होगा, जल्द ही मिलते है, इस श्रृंखला के अगले लेख के साथ, तब तक के लिए आपका सभी का दिल से धन्यवाद  !
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬    
कश्मीर यात्रा  श्रृंखला के लेखो की सूची : 

4. कुछ सुनहरे पल पहलगाम से, कश्मीर (Local Travel to Pahalgam - Kashmir..4)
5. पहलगाम से श्रीनगर, कश्मीर का यादगार सफर (Pahalgam to Srinagar - Kashmir..5)
6. हिमालय की गोद में बसे श्रीनगर, कश्मीर की सैर(Local Sight Seen to Srinagar, Kashmir.6)
7. गुलमर्ग - विश्वप्रसिद्ध पर्वतीय स्थल की सैर (Travel to Gulmarg, Kashmir...7)
8. श्रीनगर की सैर  - कश्मीर ( Local Tour to Srinagar, Kashmir...8)
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬  

10 comments:

  1. गुप्ता जी बहुत बढ़िया लगा पढ़कर, वैसे भी कश्मीर है बहुत ही सुन्दर जगह, पर आजकल अपने कश्मीर को नज़र लगी हुई है।
    आप मुग़ल गार्डन देखने श्रीनगर गए और मैं दिल्ली में ही मुग़ल गार्डन देख लिया

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद अभयानंद जी ....

      Delete
  2. तंगमर्ग से पहाडी रास्ता चालू हो जाता है गुलमर्ग के लिए। यह बहुत सुंदर रास्ता है। आपने आज की पोस्ट में बहुत सी फोटो डाली है। जिनको देखकर बहुत अच्छा लगा।
    बेहतरीन पोस्ट रितेश जी 👍

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद सचिन त्यागी जी दिल से |

      Delete
  3. कश्मीर तो कश्मीर ही है, यूँही नही इसे धरती का स्वर्ग कहा जाता हैं। यहां की सुंदरता को तो जितनी उपमा दी जाएं उतनी कम है। अब बस इससे ज्यादा शब्द नही है तारीफ में तो इतना ही कह सकती हूं ये कश्मीर है। जितनी खूबसूरत ये घाटी है उतनी ही खूबसूरत पोस्ट भी है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद हर्षिता जी ....

      कश्मीर वाकई में शानदार जगह है ...बस यहाँ पर जो अलगाववाद और आतंकवाद जो है वो खत्म हो जाए तो सोने पे सुहागा वाली बात हो जाए... बहुत से लोग अभी भी कश्मीर समस्या की वजह से यहाँ पर नहीं आते ....

      धन्यवाद

      Delete
  4. जितनी खूबसूरत ये घाटी है उतनी ही खूबसूरत पोस्ट भी है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी सही कहा....धन्यवाद अभय जी

      Delete
  5. sir sonmarg yatra ki jankari bhi to dijiye

    ReplyDelete
    Replies
    1. थोडा सा बाकि रह गया है जल्द ही पोस्ट करता हूँ .

      Delete

ब्लॉग पोस्ट पर आपके सुझावों और टिप्पणियों का सदैव स्वागत है | आपकी टिप्पणी हमारे लिए उत्साहबर्धन का काम करती है | कृपया अपनी बहुमूल्य टिप्पणी से लेख की समीक्षा कीजिये |

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Ad.

Popular Posts