Search This Blog

Tuesday, May 13, 2014

महताब बाग ( Mehtab Bagh )→ मुगलकालीन खूबसूरत बाग (कुछ पल आगरा से ......7)

Written By→ Ritesh Gupta
पिछले लेख में हम लोगों ने ताजमहल के पूर्वी गेट के तरफ स्थित खूबसूरत उद्यान "ताज नेचर वॉक" का अवलोकन किया था । ऐतिहासिक शहर आगरा  में ताजमहल और लाल किला के अलावा भी बहुत कुछ है देखने लायक । कुछ पल आगरा से की श्रृंखला में एक और कड़ी को जोड़ते हुए अब आपको ले चलते है, ताजमहल के ठीक दक्षिणी द्वार के सामने यमुना पार नदी के बाएँ तट पर स्थित "महताब बाग  Mehtab Bagh" की सैर पर, जिसे चाँदनी बाग भी कहा जाता है ......

मुगलकाल के अधिकतर मुगल बादशाह प्रकृति प्रेमी थे, साथ ही साथ आलिशान भवन बनवाने के जुनूनी भी थे । वे जहाँ भी जाते वहाँ अपने आराम-गाह और ठहरने के लिए हरे-भरे बाग, झरने, स्मारक, भवन और नहरे बनवाया करते थे । महताब बाग भी उसी मुगलकालीन शैली में निर्मित एक ऐतिहासिक बाग है, जो ताजमहल के दक्षिणी दरवाजे के ठीक सामने यमुना नदी के पार लगभग उतने ही क्षेत्रफल में विकसित है; जितने में की प्रसिद्ध ताजमहल । महताब बाग एत्माद्दौला से कुछ किलोमीटर दूर बसे कच्छपुरा नाम के गाँव पास स्थित है, शहर के अन्य स्मारकों की तरह महताब बाग भी बड़ी संख्या में सैलानियों और फिल्मो को शूटिंग करने वालो को अपने आकर्षित करता है ।
कच्छपुरा गाँव स्थित महताब बाग से नजर आता ताजमहल ( A Taj Mahal View from Mehtab Bagh, Kachhpura, Agra )

आगरा के किसी भी हिस्से / बस स्नाथक / रेलवे स्टेशन से महताब बाग अपने निजी या स्थानीय वाहनों जैसे रिक्शा, टेंपो या टैक्सी की साहयता से आसानी से पहुँचा जा सकता है । महताब बाग कच्छ्पुरा नाम गाँव के पास है, जो राष्ट्रीय राजमार्ग-2 पर स्थित आगरा के रामबाग से 4 किमी० और एतमादुद्दौला से 2.50 किमी० दूर है । यहाँ पर पार्किग की व्यवस्था बाग के बाहर ही सड़क किनारे छोटी-छोटी दुकानों के पास ही है । 

महताब बाग में प्रवेश के लिए शुल्क देना होता है । भारत के नागरिक आगंतुकों के लिए टिकिट दर मात्र 5 रु. प्रति व्यक्ति (Rs.5/- Per Head Entrance Fees for Indian/Shark ) है और विदेशियों के लिए टिकिट दर 100/- प्रति व्यक्ति (Rs.100/- Per Head Entrance Fees for Non-Indian ) है । पन्द्रह साल के बच्चों के लिए स्मारक में प्रवेश नि:शुल्क है (No Entrance fees up to 15year old Child)महताब बाग खुलने का समय सूर्योदय से सूर्यास्त तक का है

बाग प्रवेश करते ही घास का बना एक बड़ा लंबा सा गलियारा नज़र आता है, जिसके दोंनो तरफ काफी बड़े भू-भाग में तरह-तरह फलदार के पेड़ लगे हुए है । थोड़ा आगे चलने पर यह घास का गलियारा चार रास्ते में बदल जाता है और यहाँ से ठीक सामने यमुना के उस पार शान से खड़ा ताजमहल अपनी अनुपम सौंदर्य बिखेरता प्रतीत होता है । वैसे महताब का अर्थ है - चाँद की रौशनी । पूर्णिमा के दिन जब चाँद अपने पूरे शबाब पर होता है, उस समय इस बाग से चाँदनी में नहाये ताजमहल के रूप का दीदार करना अपने आप में एक अनुपम अनुभव होता है, शायद इसलिए इसे "चाँदनी बाग " भी कहते है । महताब बाग के यमुना किनारे वाले अंतिम छोर से ताजमहल की अनुपम छठा को निहार कर पर्यटक भाव-विभोर हो जाते है । 

यमुना नदी के किनारे 25 एकड़ में भूभाग में फैले इस बाग का निर्माण सन 1631 से सन 1635 के बीच किया गया था । यह बाग ताजमहल के एक समान बना है, क्योंकि इसकी चौड़ाई ठीक ताजमहल की चौड़ाई के बराबर ही है । बाग के बीच में नक्काशीदार लाल पत्थरों से बना एक बड़ा सा अष्टभुजीय तालाब है, जिसमें सम्भवतः ताजमहल का प्रतिबिंब बनता है । इस तालाब के लिए पानी बगल के झरने या यमुना से लाया जाता था । पुरातत्व विभाग द्वारा उत्खनन में निकला यह तालाब वर्तमान में सूखा पड़ा हुआ है । यमुना नदी के किनारे होने के कारण दुर्भाग्यवश यह बाग मुगलकाल से लेकर अब तक यमुना नदी में आने वाली बाढ़ की चपेट में आता रहा है ।  जिससे इस बाग की खूबसूरती और ऐतिहासिक निर्माण को काफी हानि हुई है या फिर वो नष्ट हो गये है जिस कारण यह लगबग उजड़ सा गया है । बाढ़ के कारण बाग के चार बलुआ पत्थर के स्तंभ ( लाल पत्थर से बनी छतरी/बुर्जी ) में से सिर्फ एक ही सुरक्षित है ।  इनमें से तालाब के उत्तर और दक्षिण में स्थित दो स्तंभ की नींव आज भी देखी जा सकती है । ऐसा समझा जाता है कि यह संभवत: यह इस बाग का पैविलियन हुआ करता होगा । यह स्थल काले पत्थर के ताजमहल की किद्वंती से भी जुड़ा है, माना जाता है की शाहजहाँ ने जब स्वेत संगमरमर से धवल ताजमहल को मुक्कमल कर लिया तब उसने यहाँ पर अपने लिए इस स्थान पर काले ताजमहल का निर्माण आरंभ कर दिया था । हकीकत में पुरातात्विक उत्खनन से इसके एक बाग परिसर होने के प्रमाण मिले है ।

काफी समय पहले यहाँ पर केवल दक्षिणी चाहरदीवारी का एक हिस्सा और दक्षिण-पूर्वी बुर्जी ही दिखाई पड़ती थी । सन 1996-97 में पुरातत्व विभाग के द्वारा इस स्थान पर कराए गए उत्खनन में 25 फब्बारों सहित एक विशाल अष्टभुजीय लाल पत्थर की दीवारी से निर्मित तालाब, एक छोटा केन्द्रीय कुंड, पूर्वी बारादरी के अवशेष तथा उत्तरी प्रवेश द्वार निकला है । उत्तरी तथा पूर्वी भाग में बुरी तरह से ध्वस्त चाहरदीवारी का भी पता चला है ।

वर्तमान में भारतीय पुरातत्व विभाग ने खुदाई में निकले अवशेषों / निर्माण के आधार पर इसे चारबाग प्रणाली पर आधारित एक विशिष्ट मुगल बाग के रूप में विकसित कर दिया  है । इस मुगल बाग में 40-50 से अधिक प्रजातियों के वृक्षों, झाडि़यों तथा बेलो / घासों,  पेड़-पौधे उगाए गये है । जैसे आंवला, मौलसरी, शहतूत, अमरूद, जामुन, गुड़हल, अशोक, नींम, नींबू, रतनजोत, चाँदनी, पीला कनेर, लाल कनेर, चंदन,  लिली, अनार, आदि । ताजमहल के चारों ओर प्रदूषण कम करने के लिए हरित क्षेत्र बनाने के लिए इस बाग को विकसित किया गया है । हरियाली में सैर करने के लिए वर्तमान में महताब बाग एक आदर्श स्थल है, यहाँ आकार हरी घास पर चलना, घने पेड़ो के झुण्ड के बीच में टहलना, हरी-भरी झाड़ियों के बीच बैठकर कर ताजमहल को निहारने का एक अपना ही अलग रोमांच है ।

उपरोक्त सारी जानकारी हुई महताब बाग के बारे में, अब आप लोगो को कराते है यहाँ की सैर नीचे दिए गए चित्रों के माध्यम से जो मैंने अपने यहाँ की यात्रा के दौरान सर्दी के मौसम अपने मोबाइल कैमरे से ली थी ।

महताब बाग का प्रवेश द्वार (Main Entrance gate of Mehtab Bagh )
महताब बाग के बाहर का द्रश्य (Outside of the Mehtab Bagh)

बाग के अंदर घास का एक गलियारा, महताब बाग (Grass Pathway at Mehtab Bagh, Agra)

बाग के अंदर घास का एक गलियारा, महताब बाग (Grass Pathway at Mehtab Bagh, Agra)

घास का एक गलियारे से ताजमहल का द्रश्य,महताब बाग (Taj Mahal View from Grass Pathway at Mehtab Bagh,Agra)
कुछ यु नजर आता झाड़ियो के बीच से ताजमहल 
बाग में ज्यामिती विधि से लगे अशोक के पेड़, महताब बाग (Ashok Tree at Mehtab Bagh, Agra)

बाग में विभिन्न प्रकार की फूलों के पौधे और झाड़िया, महताब बाग (Many type Flower Plant at Mehtab Bagh, Agra)

अष्टकोणीय लाल पत्थर से निर्मित तालाब, महताब बाग, आगरा  (Eight Corner Pond at Mehtab Bagh, Agra)

अष्टकोणीय लाल पत्थर से निर्मित तालाब, महताब बाग, आगरा  (Eight Corner Pond at Mehtab Bagh, Agra)


महताब बाग के अंतिम छोर से ताजमहल का द्रश्य (TajMahal View From Mehtab Bagh, Agra)

पेड़-पौधों के मध्य से दिखता ताजमहल ( TajMahal View from tha Plantation of Mehtab Bagh, Agra)

अष्टकोणीय तालाब के नीचे बना एक छोटा केन्द्रीय कुंड (Another Small Pond at Mehtab bagh)

बाग में आंवले के फल से लदा एक पेड़ (Avla Tree at Mehtab Bagh )

बाग के बारे में जानकारी देता प्रवेश द्वार पर लगा एक शिलालेख

आगरा के महताब बाग की इस सैर यही समाप्त करते है । आगरा के इसी श्रृंखला में अगले लेख में आप सभी ले चलेंगे आगरा के किसी और नए मनोरंजक/ एतिहासिक स्थल पर ....तब तक के लिए आप सभो नमस्कार और लेख को पढ़ने के लिए आप सभी बंधुओ को धन्यवाद !

▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
आगरा से श्रृंखला के लेखो की सूची :
2. ताजमहल (TAJMAHAL) → विश्व की एक खास धरोहर (कुछ पल आगरा से ......2)
3. लालकिला (Red Fort, Agra) → आगरा की एक और विश्व धरोहर (कुछ पल आगरा से ......3) 
4. एत्माद्दौला, आगरा → Itmad-ud-Daulah (Baby Taj), Agra ( कुछ पल आगरा से....... 4 ) 
5. अकबर का मकबरा (Akbar Tomb, AGRA)→बादशाह का आरामगाह (कुछ पल आगरा से ....... 5)
6. ताज नेचर वॉक (Taj Nature Walk,AGRA)→प्रकृति से ताज के दर्शन (कुछ पल आगरा से ....... 6)
7. महताब बाग ( Mehtab Bagh )→ मुगलकालीन खूबसूरत बाग (कुछ पल आगरा से ......7)
8. कीठम झील सूर सरोवर पक्षी विहार..Keetham Lake, Runkata,Agra (कुछ पल आगरा से ......7)  
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬


महताब बाग गूगल नक़्शे पर (Mehtab Bagh in Google Map)




16 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (14-05-2014) को "आया वापस घूमकर, देशाटन का दौर" (चर्चा मंच-1612) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन एक्सिडेंट हो गया ... रब्बा ... रब्बा - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. अच्छी जानकारी के साथ सुंदर तस्वीरे ...! आभार रीतेश जी ...!

    RECENT POST आम बस तुम आम हो

    ReplyDelete
  4. इस ऐतिहासिक बाग के सुंदर चित्रमय वर्णन के लिये आभार।

    ReplyDelete
  5. आगरा से रु-ब-रु कराता, आपका सुंदर यात्रा-वृतांत.

    ReplyDelete
  6. bahut sundar jankari wah bhi sachitra.....!

    ReplyDelete
  7. अच्छी जानकारी दी है आपने चित्र भी सुन्दर हैं !!

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत चित्रों से सुसज्जित सुंदर वृतांत...

    ReplyDelete
  9. आप सभी मित्रों का इस पोस्ट आने और अपनी सुन्दर टिप्पणी के माध्यम से अपने विचार रखने के लिए आप सभी का धन्यवाद |

    ReplyDelete
  10. Very beautiful pictures..Detailed and informative post :)

    ReplyDelete
  11. वाह ! आगरा के अनछुए पहलुओं की आँखों देखी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद | प्रजापति जी

      Delete

ब्लॉग पोस्ट पर आपके सुझावों और टिप्पणियों का सदैव स्वागत है | आपकी टिप्पणी हमारे लिए उत्साहबर्धन का काम करती है | कृपया अपनी बहुमूल्य टिप्पणी से लेख की समीक्षा कीजिये |

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Ad.

Popular Posts