Search This Blog

Thursday, August 22, 2013

लाल किला (Red Fort, Agra) → आगरा की एक और विश्व धरोहर (कुछ पल आगरा से ......3)

Written By→ Ritesh Gupta
कुछ पल आगरा से " श्रृंखला के पिछले लेख में मैंने आपको ताजमहल के बारे बताया था और उस सुन्दर स्मारक की सैर भी की थी । अब इसी श्रृंखला के अग्रसर करते हुए इस लेख में आपको लिए चलते है, विश्व धरोहर सूची में शामिल आगरा का प्रसिद्ध पर्यटक स्थल " आगरा के लाल किला " की सैर पर .......

ताजमहल से केवल दो किलोमीटर दूरी पर बना आगरा का लाल किला दुनिया भर में सुन्दरतम किले के रूप में विख्यात आगरा में ताजमहल के बाद दूसरा सबसे प्रसिद्ध स्थल है, जो यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में सम्मान सहित शामिल है । मुगलों की पीड़ी दर पीड़ी इतिहास का गवाह रहा यह किला यमुना नदी के किनारे बना हुआ, बेहद मजबूत, सुन्दर और स्थापत्यकला की द्रष्टि से देश का महत्वपूर्ण किला है । प्रतिदिन हजारों के संख्या में पर्यटक और घुमक्कड़ इस किले को देखने आते हैं और मुगलकालिन शैली से अपना परिचय करते है 

Main Entrance Gate of Red Fort, Agra (लाल किले का मुख्य प्रवेश द्वार )
किले का आकार अर्ध-चंद्राकर है, जो यमुना नदी समानन्तर और दूसरे तरफ से कुछ वृत्ताकार या त्रिभुजाकार  है । किले की तीनो तरफ सड़क बनी हुई है, जो सभी तरफ से आपस में जुड़ी हुई है । यमुना के तरफ वाले सड़क मार्ग को यमुना किनारा मार्ग कहते है, जो ताजमहल के पश्चिमी दरवाजे तक जाता है । एक मार्ग आगरा फोर्ट रेलवे स्टेशन होता हुआ बिजलीघर चौराहे फिर उससे आगे लाल किले के मुख्य प्रवेश दरवाजा जो रामलीला मैदान के सामने तक जाता है, उससे आगे जाकर यही रास्ता यमुना किनारे वाले मार्ग पर जाकर मिल जाता हैं । किला चारों तरफ की दीवारे करीब सत्तर फिट ऊँची और कही-कही कई मीटर चौड़ी है । किले की दीवारे लाल रंग के बेहद मजबूत बलुआ पत्थर से बनी है और सुरक्षा द्रष्टि से किले के चारों तरफ कई मीटर और चौड़ी खाई निर्माण किया गया था । किले के चारों कोने पर चार द्वार हैं, जिनमे से मुख्य द्वार दिल्ली द्वार जो चारों में से भव्य है । इस द्वार के अंदर भी एक और द्वार है, जिसे हाथी पोल कहते हैं, जिसके दोनों तरफ दो वास्तवाकार पाषाण हाथी की मूर्तियां हैं । वर्तमान में यह द्वार शहर के व्यस्तम चौराहे बिजलीघर के पास के अम्बेडकर पार्क के पीछे बना हुआ है और यह प्रवेश हेतु बंद है । दूसरा अकबर दरवाजा है, जिसे अमरसिंह द्वार भी कहते है, जो स्थापत्य कला में दिल्ली दरवाजे जैसा ही है, जो किले की खाई के पार करने के बाद बना हुआ है । यह दरवाजा वर्तमान में रामलीला मैदान के पास बना हुआ है जहाँ से आजकल पर्यटको और आगुन्तको को किले में प्रवेश दिया जाता है

आगरे इस लाल किले का इतिहास काफी पुराना है । पहले यह किला मूलतः ईंटो का बना हुआ था जिसका नाम बादलगढ़ था, जो राजपूतो के अधिकार में था । बाद में महमूद गजनवी की सेना ने इस पर कब्ज़ा किया था । दिल्ली सल्तनत का प्रथम सुल्तान सिकंदर लोदी (1487-1517)  किले में रहा था । उसने पूरे देश पर यही से शासन किया था  व आगरा को देश की दूसरी राजधानी बनाई थी । सिकन्दर लोदी की इसी किले में मृत्यु बाद उसके पुत्र इब्राहिम लोदी ने नौ वर्षों तक यहाँ का राज काज देखा । उसने अपने काल में कई भवन, मस्जिदें व कुएं बनवाये थे । पानीपतके युद्ध में इब्राहीम की मृत्यू के बाद मुगलों ने इस किले पर कब्ज़ा कर लिया और यहाँ की राजगद्दी और किले की अगाध संपत्ति बाबर के हाथ आ गयी । बाबर के बाद यहाँ की बादशाहत हुमायूँ को मिल गयी । एक युद्ध में हुमायूं अफगान के सम्राट शेरशाह सूरी से पराजित हो गया और पांच साल तक इस किले पर इन्ही अफगानों का कब्ज़ा बना रहा । पानीपत के दूसरे युद्ध (1556) में अफगान सेना मुगलों से पराजित हो गयी और इस किले पर फिर से मुगलों का कब्ज़ा हो गया । 

आगरा के देश में मध्य में स्थिति को देखते हुए अकबर ने इसे अपनी राजधानी बनाया और ईंटो से निर्मित इस खस्ताहाल किले का निर्माण फिर शुरू कराया । इसे अंदर से ईंटों से बनवाया गया व बाहरी आवरण को लाल बलुआ पत्थर से बनबाया गया । इस किले की दीवारे कही-कही तो कई मीटर तक चौड़ी है और चारों तरफ खाई बनी हुयी है । 

A view of Agra Red Fort from the Road side (सड़क से नजर आता लाल किला)
अकबर के बाद उसके पुत्र जहाँगीर ने इस किले से अपने बादशाहत कायम रखी और देश का राजकाज दिल्ली और आगरा दोनो जगहों से चलाया । जहाँगीर के बाद उसके शाहजहाँ ने इस किले को आज के अपने वर्तमान स्वरूप में पंहुचाया । शाहजहां ने अपनी प्रिय पत्नी की याद में ताजमहल बनवाया और उसने किले के निर्माण के समय कई पुरानी इमारतों व भवनों को तुड़वाकर कई सफेद संगमरमर इमारतें बनवाई । मुग़ल बादशाह शाहजहां के स्वर्ण और रत्नजड़ित, श्वेत संगमरमर से इमारते बनवाने के शौक ने राज्य के खजाने को खाली करना शुरू कर दिया था । 

धन की बर्बादी होते देख शाहजहां को उनके जीवन के अंतिम दिनों में उनके पुत्र औरंगज़ेब ने आगरा के  इस  किले में बंदी बना दिया था । औरंगजेब के द्वारा दी गयी यह ऐसी सजा थी, जो किले के महलों की विलासिता को देखते हुए उतनी कड़ी नहीं थी । यह भी कहा जाता है कि शाहजहां की मृत्यु किले के मुसम्मन बुर्ज में ताजमहल को देखेते हुए हुई थी। इस बुर्ज के संगमरमर के झरोखों से ताजमहल का बहुत ही सुंदर दृश्य दिखता है।
Next Second Entrance big wooden Gate of Red Fort (लाल किला का मुख्य प्रवेश दरवाजे के दूसरा दरवाजा)

किले तक शहर के कई हिस्से से अपने वाहन, टैक्सी या ऑटोरिक्शा से आसानी से पंहुचा जा सकता हैं । ताजमहल पहुँचने के कुछ मार्ग निम्नवत हैं →

1. राष्ट्रीय राजमार्ग-2 (NH-2) के वाटरवर्क्स चौराहा से जीवनी मंडी, यमुना किनारा मार्ग से होते हुये, आगरा फोर्ट स्टेशन के सामने से होते हुए बिजली घर चौराहा फिर वहाँ से रामलीला मैदान से थोड़ा आगे जाकर किले के प्रवेश द्वार तक पहुँच सकते है । यहाँ की पार्किंग किले के प्रवेश द्वार केठीक सामने बनी हुई है
 
2. यमुना एक्सप्रेस-वे से NH-2 से होते हुए शाहदरा , नुनहाई, एतमाद-उदौला, अम्बेडकर सेतू और यमुना किनारा मार्ग से होते बिजली घर चौराहा फिर वहाँ से रामलीला मैदान से थोड़ा आगे जाकर किले के प्रवेश द्वार तक पहुँच सकते है

3. बिजली घर चौराहा से लालकिला की दूरी करीब एक किलोमीटर है जो पैदल या स्थानीय वाहन रिक्शा, टेम्पो या तांगे से पहुँच सकते है

5. राष्ट्रीय राजमार्ग-2 के भगवान टाकीज चौराहे से महात्मा गाँधी मार्ग होते सदर बाजार फिर वहाँ से मॉल रोड से होते हुए एक मोड़ से बालूगंज होते हुए सीधे किले के प्रवेश द्वार तक पहुँच सकते है । 

किले प्रवेश द्वार तक पहुचने के बाद सबसे पहले खाई के ऊपर बने छोटे से पुल से होते हुए मुख्य दरवाजे प्रवेश करते है, प्रवेश करते दरवाजे के बाई तरफ टिकिट खिड़की बनी हुई है जहाँ लाल किले प्रवेश हेतु टिकिट उपलब्ध है, यहाँ पर 20 रूपये का टिकिट भारतीयों के लिए व 520 रूपये का टिकिट विदेशी सैलानियों के है । आगरा का यह लाल किला पर्यटको के लिए सप्ताह के सातो दिन खुलता है, कभी भी सूर्य उदय से लेकर सूर्यास्त तक इस किले में भ्रमण का आनंद लिया जा सकता है । ध्वनि गाइड (AUDIO GUIDE) की व्यवस्था है, जो टिकिट खिड़की से कुछ मूल्य किराए पर प्उपलब्ध हो जाती है

टिकिट लेने के बाद एक बड़े से लकड़ी के दरवाजे से होते हुए अंदर प्रवेश करते हैं तो एक और खूबसूरत कारीगिरी किये हुए लाल पत्थर का दरवाजा पड़ता है । इस दरवाजे से आगे निकलने के बाद आगे का करीब सौ-डेढ़ सौ मीटर रास्ता काफी चढ़ाई वाला है, को पार करने के बाद किले के अंदर प्रवेश कर जाते है । यहाँ पर कई सारे गाइड उचित मूल्य में मिल जायेगे जो पूरे किले को क्रम से उसकी गाथा बताते हुए घूमा देते है, उचित तो यही रहेगा की गाइड कर ही ले

यहाँ से दाई तरफ के जहाँगीर महल से क्रमानुसार पूरे किले को घूम सकते है । वैसे किले का काफी और हिस्सा पर्यटकों के दर्शनार्थ बंद है फिर किले के दर्शन हेतु जो हिस्से खुले है, वो भी काफी आकर्षित करते है और मुगलों की शानोशौकत को एक बारगी हमारे सामने प्रस्तुत करते है कि कैसे मुगल बादशाहो ने अपनी राजसी जिंदगी ठाट-बाट इस किले में बिताई थी ।  

किले के भीतर दर्शनार्थ हेतु कुछ स्थल इस प्रकार हैं → जहांगीर महल, जोधाबाई महल, अंगूरी बाग, दीवान-ए-ख़ास, दीवाने-ऐ-आम, स्वर्ण मंडप, ख़ास महल,  मछली भवन, मीना मस्जिद, मीना बाजार,
मोती मस्जिद,  मुसम्मन बुर्ज़, नगीना मस्जिद, रंग महल, शाही बुर्ज, शाहजहाँ महल, शीश महल, हरी घास के पार्क, बगीचे  आदि । 

हो सकता हैं की इनमे से कुछ स्थल दर्शन हेतु बंद हो । इस प्रकार इन सभी स्थलों को घूमते हुए इस किले कि यात्रा दीवाने-ए-आम पर आकार खत्म हो जाती है । दीवाने-ए-आम के सामने ही एक हरी घास का पार्क है और उसके आगे सीमेंट की कुसिया बनी हुई है । यदि थक गए हो यहाँ पर कुछ देर आराम किया जा सकता है

नीचे दिए गए किले के विभिन्न चित्रों (All Picture Taken by me) के माध्यम से आप भी कलात्मक किले का भ्रमण कर लीजिए




Next Third Entrance Gate of The Red Fort (एक और खूबसूरत दरवाजा)

Emperor Jahangir's Palace in the Red Fort 
(लाल किले के अंदर सुन्दर जहाँगीर महल और रास्ते में रखा पत्थर का एक बड़ा जहाँगीरी कटोरा  )

Beautiful pot for Tulsi plant in the Red Fort (जोधाबाई के महल के अंदर तुलसी जी के पौधे के लिए बनाया का पोट)

Jodhabai Palace inside Lal Kila (किले के अंदर जोधाबाई का महल )

A view from Lal Kila (लाल किले से दिखता यमुना किनारा रोड )

A Beautiful view of Tajmahal from Lal Kila (किले सेनजर आता ताजमहल का खूबसूरत नजारा )

A view from Lal Kila (लाल किले से दिखता रेलवे का एक पुल  )

A Beautiful carving  at Wall (किले की एक दीवार पर खूबसूरत कलाकारी)

A Beautiful Carving at the Roof  ( छत पर बनी एक सुन्दर डिजायन )

Beautiful Mussmman Burj with beautiful carving at Marble 
(मुसम्मन  बुर्ज जहाँ शाहजहाँ को औरंगजेब ने कैद किया गया था )

A beautiful MarbleFountain at Musmman Burj (मुसम्मन बुर्ज में संगमरमर से खूबसूरत एक फुव्वारा )

A Meena Bazar at Lal Kila
 (मीना मस्जिद के किले का मीना बाजार जो केवल महल की महिलायों के लिए था  )

A Mahal & Diwan-E Khas a Kila (किले का दीवाने ख़ास और एक महल )

 Diwan-E-Kash ( दीवाने ख़ास में मौजूद बादशाह का तख़्त, जो एक लड़ाई में टोप के गोले से टूट गया था  )

Musamman Burj & Tajmahal ( मुसम्मन बुर्ज और ताजमहल का एक नजारा )



 
इस प्रकार आगरा के लालकिला की हमारी सैर यही समाप्त होती और इस श्रृंखला ( कुछ पल आगरा से ) के इस लेख को यही समाप्त करते है अगले लेख में आप सभी ले चलेंगे आगरा के फिर किसी नए और मनोरंजक स्थल पर ....तब तक के लिए धन्यवाद !
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬     
Table of Contents  → कुछ पल आगरा से श्रृंखला के लेखो की सूची :      
2. ताजमहल (TAJMAHAL) → विश्व की एक खास धरोहर (कुछ पल आगरा से ......2)
3. लालकिला (Red Fort, Agra) → आगरा की एक और विश्व धरोहर (कुछ पल आगरा से ......3) 
4. एत्माद्दौला, आगरा → Itmad-ud-Daulah (Baby Taj), Agra ( कुछ पल आगरा से....... 4 ) 
5. अकबर का मकबरा (Akbar Tomb, AGRA) → बादशाह का आरामगाह (कुछ पल आगरा से ....... 5)
6. ताज नेचर वॉक (Taj Nature Walk,AGRA)→प्रकृति से ताज के दर्शन (कुछ पल आगरा से ....... 6)   
7. महताब बाग ( Mehtab Bagh )→ मुगलकालीन खूबसूरत बाग (कुछ पल आगरा से ......7) 
8. कीठम झील सूर सरोवर पक्षी विहार..Keetham Lake, Runkata,Agra (कुछ पल आगरा से ......7)  
 
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

30 comments:

  1. राम राम जी, बहुत खूबसूरत, एक से बढ़कर एक चित्र....धन्यवाद, वनडेमातरम....

    ReplyDelete
    Replies
    1. राम राम प्रवीण जी....
      धन्यवाद ...वन्देमातरम

      Delete
  2. यह सफ़र वाकई बहुत सुहाना लगा। मैंने भी यह किला देखा है, मगर तब मैं बहुत छोटी थी। इस किले की केवल एक तस्वीर दिमाग में है किले के अंदर कई सारी काँच की बोतले रखी हुई थी तब गाइड ने बताया था कि कभी इन में इत्र हुआ करता था क्या अब भी वहाँ ऐसा कुछ है ? साथ ही कई जगह रंगीन शीशों का भी काम था। अब भी ऐसा कुछ दिखा था क्या आपको ? या हो सकता है मुझे ही गलत याद हो।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कमेंट के लिए धन्यवाद पल्लवी जी..... बहुत साल पहले हमने भी देखा था.....जहाँ रंगीन कांच के शीशे का काम है उसे शीश महल कहते है...मोती जैसी मोती मस्जिद ....जो आजकल पर्यटकों के दर्शन हेतू बंद हैं.......
      आपको बिल्कुल सही याद है.....
      धन्यवाद

      Delete
  3. बहुत सुंदर संग्रहनीय प्रस्तुति ???

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र जी....

      Delete
  4. Replies
    1. फोटो की तारीफ के लिए शुक्रिया तिवारी जी.....

      Delete
  5. बहुत सुन्दर चित्र जीवंत करते लाल किला को शब्दों से ज्यादा खुबसूरत है आपका सफ़र

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमेशा की तरह उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद रमाकांत जी....

      Delete
  6. कल की बुलेटिन जन्म दिवस : हरिशंकर परसाई …. ब्लॉग बुलेटिन में आपकी पोस्ट (रचना) को भी शामिल किया गया। सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद हर्षवर्धन जी......

      Delete
  7. बहुत ही सुंदर जानकारी सहित चित्रमयी पोस्ट ! निश्चित रूप से आपने लाल किले की भव्यता और खूबसूरती को बड़ी बारीकी के साथ कैमरे में कैद किया है ! आकर्षक पोस्ट !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद साधना वेद जी......

      टिप्पणी माध्यम से उत्साहवर्धन करने व चित्रों को पसंद करने के लिए.....धन्यवाद

      Delete
  8. Replies
    1. धन्यवाद धीरेन्द्र जी...

      Delete
  9. Kya baat hai ! Bahut hi khoosurat post. Bachpan mein Agra gaya tha, aapne yaadien taaza kara di :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद पुरु जी ...टिप्पणी के माध्यम से उत्साहवर्धन करने के लिए....

      Delete
  10. 92 में जब मैं पहली बार आगरा गई थी तब ये किला देखा था ..बहुत ही खूबसूरती लिए ये किला आज भी खड़ा है अपने अंदर बहुत कुछ लिए हुए ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा दर्शन जी..... आगरा का पहले भी वैसा ही था और अब भी पहले जैसा ही है.....|
      धन्यवाद !

      Delete
  11. Hum log agra june main gay the,tajmahal bahut sundar hai.Shopping kya lekin bewkoof ban gay,dukaan wle ne kaha ki homdelivery ho jayga to hamne chije pasand kar li usne kaha ki 5 din mein saman pahuc jayga lekin kaphi time laga.Uske baad jo saman aya wo bhi defect tha wo pasand ki gayi cheeje nahi thi, phone se dukan wale ko bolne par usne kaha phir se bhej denge lekin unke dwara nahi bheja gaya.Riteshji agar aap kuch kar sakenge to bahut meharbani hogi.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हैलो जी.....
      टिप्पणी के लिए धन्यवाद | आपने आगरा में शोपिंग कहाँ से की थी और क्या लिया था....? वैसे इस तरह की शोपिग से बचना चाहिये...मेरा मतलब खुद से सामन खरीद के ले जाओ ..कभी भी दुकानदार पर नहीं छोड़ना चाहिये की वो आपके पते पर भेज दे.....| आप अपनी डिटेल इमेल पर दीजिए....यदि हमसे कुछ बन पड़ेगा तो जरुर करेगे.....

      Delete
  12. बहुत सुंदर संग्रहनीय प्रस्तुति है ! मुझे पुराने किले और धरोहरों के प्रति बेहद लगाव है ! मैं २ बार लाल किला देखने जा चुका हूँ पर इच्छा नहीं भरती है ! वैसे आपकी फोटोग्राफी कमाल की है !

    मैं आप से एक बात जानना चाहता हूँ की क्या आप बता सकते हैं की लाल किले में कौन-कौन सी जगह पर्यटकों के लिए प्रतिबंधित है और उन्हें यदि देखना हो तो क्या करना पड़ेगा ! (vimalrathour.pbt@gmail.com)

    ReplyDelete
    Replies
    1. विमल राठौर जी.....
      लेख आने और उसकी सरहाना करने के लिए आपना बहुत बहुत आभार.....|

      विमल की किले के लगभग आधा भाग प्रयटको और दर्शनार्थियों हेतु बंद है.... कुछ हिस्सा सेना के तो कुछ हिस्से ASI के अधीन है.....इन जगहों के दर्शन के लिए आपको इन्ही से अनुमति लेनी पड़ेगी...... जो की आसान काम नहीं है......|
      लाल किले के बंद हिस्से में....मोती मस्जिद, शीश महल, शाही बुर्ज, मुसम्मन बुर्ज़, मीना बाजार , नगीना मस्जिद आदि है.....

      धन्यवाद ...

      Delete
  13. खूबसूरत फ़ोटो, सही साइज का फॉन्ट, आकर्षक लेखन-शैली आपके ब्लॉग की खासियत है। आपकी याददाश्त की दाद देनी पड़ेगी, की वो बाते जो हम याद नहीं रख पाते, वो भी आपको याद हैं। बहरहाल अपने लेख ऐसे ही लिखते रहिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहयोगी जी....
      सुन्दर शब्दों के माध्यम उत्साह्बर्धन के लिए आपका आभार.......
      बरहाल ...जल्द ही समय मिलते ही नई पोस्ट लिखने की कोशिश करूँगा..

      धन्यवाद

      Delete
  14. चित्रों को खीचने का अंदाज बहुत ही पसंद आया हमे रितेश जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय जी...

      Delete
  15. बहुत बढ़िया रितेश जी ! हम इस साल जनवरी में गए तो बहुत कोहरा था , बढ़िया तरह से नहीं घूम पाये लेकिन आपके चित्रों ने वो कमी पूरी कर दी !!

    ReplyDelete

ब्लॉग पोस्ट पर आपके सुझावों और टिप्पणियों का सदैव स्वागत है | आपकी टिप्पणी हमारे लिए उत्साहबर्धन का काम करती है | कृपया अपनी बहुमूल्य टिप्पणी से लेख की समीक्षा कीजिये |

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Ad.

Popular Posts