Search This Blog

Tuesday, June 18, 2013

ताजमहल (TAJMAHAL) → विश्व की एक खास धरोहर (कुछ पल आगरा से ......2)

Written By→ Ritesh Gupta
प्रिय मित्रों ! " कुछ पल आगरा से " श्रृंखला के पिछले लेख में मैंने आगरा के बारे में कुछ जानकारियां प्रस्तुत की थी । अब इसी श्रृंखला के बढ़ाते हुए इस लेख में आपको लिए चलते है, विश्व प्रसिद्ध दुनिया के लिए एक आश्चर्य खूबसूरत स्मारक ताजमहल की सैर पर .......

ताजमहल एक ऐसा नाम जिसे लेते ही एक खूबसूरत ईमारत की आकृति आँखों के सामने उभर आती है और मुगल बादशाह शाहजहाँ के अपनी बेगम मुमताज महल के लिए अजीमो प्यार का एक खूबसूरत अहसास दिला देती है । ताजमहल केवल एक स्मारक नहीं बल्कि प्यार करने वालो के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत है, किसी शायर ने ताजमहल के बारे में कुछ ऐसा कहा है " एक ताजमहल संगेमरमर का जैसे प्रेमी के गाल पे ढरका एक आँसू " । 

The Tajmahal, Agra ( पेड़ पौधे के बीच से ताज का सुहाना नजारा  )
आगरा में यमुना नदी के किनारे शान से खड़ा ताजमहल आज दुनिया के लिए प्रमुख आकर्षण है । चाहे गर्मी हो, बरसात हो या सर्दी, प्रतिदिन आगरा आने वाले और ताजमहल को देखने वाले पर्यटको की संख्या कभी नहीं गिरती । प्रतिदिन हजारों की संख्या में देशी और विदेशी पर्यटक ताजमहल का दीदार करते है और उसकी खूबसूरती का गुणगान करते नजर आते है । जो भी व्यक्ति ताजमहल को पहली बाद देखता हैं वो इसकी खूबसूरती में खो ही जाता है और उसकी मुँह से बरबस निकल ही पड़ता है "वाह ताज !" ताजमहल का डिजायन इस तरह से बना हुआ की इसे कही से भी देखो, हर तरफ से इसका एक अलग ही रूप नजर आता है

Western Gate of The TajMahal ( ताजमहल का सबसे व्यस्त पश्चिमी द्वार )
आगरा स्थित दुनिया का आश्चर्य "ताजमहल" भारत के लिए एक मुख्य धरोहर है, जिसे मुगल बादशाह शाहजहाँ ने अपनी बेगम मुमताज महल बानो के मृत्यु के बाद उनकी याद में अपने प्रेम के प्रतीक  के रूप में बनवाया था । मुग़ल बादशाह शाहजहाँ अपनी बेगम मुमताज से बेपनाह मोहब्बत करते थे और अधिकतर अपने देश के विभिन्न दौरे और युद्ध के समय उन्हें अपने साथ रखते थे । इसी तरह एक बार सोलहवी सदी में डेक्कन के विद्रोह को दबाने के लिए बादशाह अपने बेगम के साथ युद्ध के दौरे पर थे तभी उसी समय अपने चौदहवे बच्चे के जन्म देते समय उनकी प्यारी मुमताज महल का निधन हो गया और वो गम के सागर में डूब गए शाहजहाँ अपने इस बेपनाह मोहबब्त को एक साकार रूप देने और मुमताज महल की याद में एक ऐसा स्मारक बनबाना चाहते थे जो जन्नत सरीखा हो और उसे दुनिया में कभी किसी ने नहीं बनबाया हो । अपनी इस योजना को मूर्त रूप देने के उन्होंने बगदाद, मध्य एशिया और तुर्की से कारीगर बुलवाए जो संगमरमर और भवन निर्माण में दक्ष थे कुशल व्यक्ति द्वारा ताजमहल लिए एक नक्शा बनवाया जो भारत और विदेश के कई प्रमुख मंदिरों, मस्जिदों और महलों के रुपरेखा से प्रेरित था  

इस प्रकार यमुना नदी के किनारे कई सारे कूओं की नीव पर वर्गाकार आधार पर ताजमहल का निर्माण कार्य सैकड़ों शिल्पियों और बीस हजार मजदूरो को लेकर सन 1630 में शुरू हुआ । शिल्पियों और मजदूरो के अथक परिश्रम से सफेद संगमरमर से ताजमहल का निर्माण कार्य लगभग बाईस वर्षों में पूर्ण हुआ और दुनिया के सामने मुग़ल बादशाह का एक खूबसूरत सपना साकार हो गया । ताजमहल इस निर्माण कार्य दौरान कितने ही मजदूर मृत्यू को प्राप्त हो गए और न जाने कितने ही बीमार पड़ गए, पर ताजमहल का निर्माण कार्य उसी गति से चलता रहा और इसका निर्माण पूरा होने पर ऐसी दूसरी ईमारत और कही न बन सके तो क्रूर शासक शाहजहाँ से उन मजदूरों के हाथ कटवा दिए । उस समय भारत के अन्य शासकों और राजाओं से लूटे गए अकूत धन सम्पदा को इसको निर्माण में लगाया गया, इस प्रकार ताजमहल को पूरा करने में उस जमाने में एक करोड़ रुपये खर्च हुए थे । 

Western Gate Ticket Counter The Tajmahal (ताजमहल का टिकिट काउंटर )
ताजमहल के साथ एक अपवाद भी की पहले यह कभी भगवान शिव का एक मंदिर था, जिसे "तेजोमहालय मंदिर" के नाम से जाना जाता था बाद में शाहजहाँ ने अपने सैन्य शक्ति से इस मंदिर हथिया लिया और अपने प्रेम के प्रतीक के रूप में दुनिया के सामने इसको उजागर कर दिया । ताजमहल के मंदिर होने के कई प्रमाण और साक्ष्य अब भी मौजूद है, जैसे ताजमहल के मुख्य गुम्बद के ऊपर ताम्बे का कलश, उसके ऊपर त्रिशूल आकृति और हिंदू मंदिरों के निर्माण शैली के कई अलंकृत चिह्न संगमरमर के नमूने के रूप में ताज पर नजर आते हैं, जैसे मुख्य गुम्बद के बराबर में छत्रिया, दीवारों पर वेल-बूटे, कमल पुष्प, कलश, नारियल आदि हिंदू शुभ चिन्ह । 

जमीन से बीस फुट ऊँचे वर्गाकार चबूतरे पर खड़े ताजमहल का मुख्य गुम्बद 60 फिट ऊँचा और 80 फिट चौड़ा है । वर्गाकार आधार के चारो कोने पर चार लम्बी मीनारे है, जो ताजमहल की भव्यता को चार चाँद लगा देती है । ताजमहल को कही से भी देखे, इसकी नक्काशीदार दीवारे और छत हमे आश्चर्यचकित किये बिना नहीं रह सकती रंगीन पत्थरों की सुन्दर नक्काशी हमे और किसी दुनिया की सैर पर ही ले जाती है मुख्य गुम्बद में शाहजहाँ और उनके बेगम मुमताज की प्रतीकात्मक कब्रे है, जो चारों ओर से संगमरमर की महीन नक्काशीदार जालियो घिरी हुई है जालियो के ऊपर रंगीन कीमती पत्थरों से फूल, पत्ते और बूटो की सुन्दर नक्काशी की गयी है । शाहजहाँ और मुमताज की असली कब्रे उनके प्रतीकात्मक कब्रों के ठीक नीचे एक तय खाने में है, जिसे काफी साल पहले आम जनता के लिए बंद कर दिया गया था । शाहजहाँ के उर्स के समय इन असली कब्रों को जनता के देखने हेतु तीन दिनों के लिए खोल दिया जाता है । काफी समय पहले मैं इन असली कब्रों को देख चुका हूँ । मुख्य गुम्बद से कब्र कक्ष के प्रवेश द्वार पर अरबी भाषा में कुरान की आयते संगमरमर शिल्पित है । ताजमहल के वर्गाकार चबूतरे के दोनो तरफ लाल पत्थर से मस्जिदे बनी हुयी है, और चबूतरे के ठीक सामने श्रृंखला-बद्ध फुब्बारे और एक जल का कुण्ड बना हुआ है । फुब्बारे के दोनो तरफ खूबसूरत घास का बगीचा विकसित है, जिसमें कई प्रजाति फूल, पौधे और पेड़ लगे हुए हैं  

Post office inside Western Gate (पश्चिमी द्वार से प्रवेश करते ही एक डाकघर  )
चलिए उपरोक्त बाते तो हुई ताजमहल के बारे में अब आपको लिए चलते ताजमहल की सैर पर । ताजमहल परिसर में प्रवेश हेतु तीन प्रमुख प्रवेश दरवाजे है पहला पश्चिमी दरवाजा (Western Gate) दूसरा दक्षिणी दरवाजा (Southern Gate) और तीसरा पूर्वी दरवाजा (Eastren Gate) । पश्चिमी दरवाजा (सहेली बुर्ज में) और दक्षिणी दरवाजा की टिकिट काउंटर वही दरवाजे के पास है, पर पूर्वी दरवाजे का टिकिट काउंटर 750 मीटर दूर शिल्पग्राम में है । 

ताजमहल में प्रवेश के लिए भारतीयो के लिए टिकिट मूल्य 40/- रुपये, विदेशियों के लिए 1000/- रूपये और शार्क देशो के नागरिको के लिए 530/- रूपये, जिसमे शू-कवर और पानी की बोतल शामिल है । ताजमहल में प्रवेश के लिए पन्द्रह साल से छोटे बच्चो का टिकिट नहीं लगता हैं । ताजमहल देखने का समय सूर्योदय से सूर्यास्त तक है और प्रत्येक शुक्रवार को ताजमहल बंद रहता है ताजमहल के लिए ऑनलाइन टिकिट भी उपलब्ध है, इसके लिए http://asi.payumoney.com/#/ वेबसाईट पर जाइए

पूर्णिमा के दिन धवल चाँद की रौशनी में ताजमहल देखने का अपना अनुभव की कुछ अलग होता है, जब चाँद की चाँदनी ताजमहल के संगमरमर पर पड़ती है, तब एक अलग ही चमक से उठती नजर आती है और बड़ा ही खूबसूरत नजारा होता है । उत्तर प्रदेश पर्यटन द्वारा पूर्णिमा के दिन चाँद की रौशनी में नहाये ताजमहल देखने पूर्ण व्यवस्था है । पूर्णिमा के दिन ताजमहल देखने का समय रात के 8:30 बजे से 12:30 बजे तक है, प्रत्येक 30 मिनट के अंतराल में पचास लोगो के समूह में मुख्य गुम्बद से कुछ दूर से ही ताजमहल के दर्शन करवाए जाते है । रात्रि ताज दर्शन के टिकिट दर भारतीयों के लिए 510/- रुपये और विदेशियों के लिए 750/- रुपये है अब ताजमहल की टिकिट ऑनलाइन भी खरीद कर सकते हो, इसके भारतीय रेलवे के अधिकारिक साईट www.irctc.co.in जाना पड़ेगा । जहाँ से नेट बैंक या डेबिट कार्ड के जरिये टिकिट खरीदा जा सकता है  

रात्रि ताज दर्शन के लिए टिकिट इस पते पर उपलब्ध है → Archeological Survey of India, 22 Mail Road, Agra. Ph:0562-2227263, जो की 24 घंटे पहले अग्रिम आरक्षण पर उपलब्ध हो जाती है । ताजमहल सम्बन्धी और अधिक जानकारी के लिए ताजमहल की इस अधिकृत बेबसाईट पर जाए → ताजमहल  (http://tajmahal.gov.in/)

 Beautiful Gate after entering from Main Gate for Tajmahal
(मुख्य द्वार से प्रवेश करने के बाद ताज परिसर में जाने के लिए एक और खूबसूरत दरवाजा)
ताजमहल शहर के कई हिस्से से अपने वाहन, टैक्सी या ऑटोरिक्शा से आसानी से पंहुचा जा सकता हैं । ताजमहल पहुँचने के कुछ मार्ग निम्नवत हैं →
1. राष्ट्रीय राजमार्ग-2 (NH-2) के वाटरवर्क्स चौराहा से जीवनी मंडी, यमुना किनारा मार्ग से होते हुए ताजमहल के पश्चिमीद्वार की पार्किंग तक पहुँच सकते है फिर वहाँ से पैदल या बैटरी चलित गोल्फकोर्ट, रिक्शा व तांगे से करीब 500 मीटर दूर ताजमहल के पश्चिमी दरवाजे तक जा सकते है
 
2. यमुना एक्सप्रेस-वे से NH-2 से होते हुए शाहदरा , नुनहाई, एतमाद-उदौला, अम्बेडकर सेतू और यमुना किनारा मार्ग से होते पश्चिमी दरवाजे से 500 मीटर दूर पार्किंग तक पहुँच सकते है । 

3. बिजली घर चौराहा से लालकिला होते हुए पुरानी मंडी चौराहा, फिर वहाँ से शाहजहाँ पार्क से पैदल या बैटरी चलित गोल्फकोर्ट से करीब 500 मीटर दूर ताजमहल के पश्चिमी दरवाजे तक जा सकते है

4. पुराना मंडी चौराहे से लोकल वाहन (बिना पेट्रोल या डीजल) से ताजमहल के दक्षिणी दरवाजे तक जा सकते हैं । टिकिट खिड़की दरवाजे के पास ही मौजूद हैं । यह दरवाजा सबसे कम प्रसिद्ध दरवाजा है क्योंकि इसका रास्ता ताजगंज की घनी बस्ती से होकर जाता हैं
 
5. राष्ट्रीय राजमार्ग-2 के भगवान टाकीज चौराहे से महात्मा गाँधी मार्ग होते सदर बाजार फिर वहाँ से मॉल रोड से होते हुए फतेहाबाद मार्ग उसके बाद टी.डी.आई. मॉल मोड़ से होते हुए शिल्पग्राम पार्किग तक पहुँच सकते है शिल्पग्राम पार्किग से टिकिट लेने के बाद वहाँ से पैदल या बैटरी चलित गोल्फकोर्ट, रिक्शा व तांगे से करीब 750 मीटर दूर ताजमहल के पूर्वी दरवाजे तक जा सकते है

Tajmahal from the second Entrance Gate ( वाह ताज ! दूसरे दरवाजे से ताजमहल का रूप )
ताजमहल में प्रवेश के पश्चिमी दरवाजा काफी प्रसिद्ध है । यहाँ पर अक्सर काफी बड़ी संख्या में ताजमहल में प्रवेश के लिए देशी और विदेशी पर्यटकों का जमाववाड़ा लगा रहता है । कभी-कभी प्रवेश के लिए काफी लंबी लाइन लग जाती है और ताजमहल में प्रवेश के लिए घंटो में प्रतीक्षा करनी पड़ती है । प्रवेश करने से पहले सुरक्षा कर्मियों द्वारा कड़ी चेकिंग से गुजरना पड़ता है । ताजमहल में कैमरा और मोबाइल के आलावा किसी भी प्रकार का बैग और खाने-पीने  के सामान को ले जाने की इजाजत नहीं है । 

यहाँ से प्रवेश करने के बाद हम लोग ऐसे प्रगाढ़ में पहुँच जाते है, जहाँ इसके तीनों दरवाजे (Western Gate, Southern Gate & Eastren Gate ) मिल जाते है । इससे आगे ताजमहल के मुख्य स्मारक में प्रवेश के लाल पत्थर के एक बड़े खूबसूरत दरवाजे होकर ताजमहल के लिए प्रवेश किया जाता है । इस दरवाजे से प्रवेश करते हुए ही ताजमहल की पहली झलक दिखना शुरू हो जाती है । यहाँ से आगे कुछ सीढ़ियाँ उतरने के बाद सुन्दर बगीचे और फुव्वारे के बीच अवलोकन करते हुए परिसर बिल्कुल बीच में ताज के सामने संगमरमर पत्थर से बने एक पानी के कुण्ड पर पहुँच जाते है । इसे शूटिंग पॉइंट कहा जाता है, क्योंकि यह जगह फोटोग्राफी के लिए सबसे उत्तम जगह हैं यहाँ से ताजमहल के साथ बड़े ही खूबसूरत फोटो आते है, इस जगह पर अक्सर फोटोग्राफी करने वालो की भीड़ लगी रहती है वैसे ताजमहल को परिसर के किसी भी हिस्से से देखो इसका हर रूप एक अलग अंदाज़ लिए होता है, और सभी के लिए एक खूबसूरत पल बन जाता है । 

A Beautiful Garden area of the Tajmahal Campus (ताजमहल परिसर में एक खूबसूरत बगीचा )
Picture from Bottam of the Tajmahal  ( चबूतरे के बिल्कुल नीचे से ताजमहल का एक रूप )
Another View of the Tajmahal from corner of the campus (एक किनारे से ताजमहल का अन्य द्रश्य )
The Tajmahal, Agra (समीप से ताजमहल )
इस स्थान से आगे चलने के बाद स्मारक के मुख्य गुम्बद के नजदीक पहुँच जाते है मुख्य स्मारक के चबूतरे और कब्रों तक जाने के लिए जूता स्टैंड अपने जूतों चप्पलो को रखना होता है, जो कि निशुल्क है । इसके बाद नंगे पाव ही स्मारक के नीचे से दोनो मस्जिदों के पास से अवलोकन करते व चबूतरे का पूरा चक्कर लगाने के बाद चबूतरे की सीढ़ियाँ चढ़ते के बाद मुख्य ताज के गुम्बद तक पहुँच जाते है । फिर उसके बाद सामने गुम्बद के एक बड़े दरवाजे (जिसमे पर अरबी भाषा में कुरान आयते लिखी हुयी है) के नीचे से होते हुये शाहजहाँ और मुमताज के कब्रों तक पहुँच जाते है । नक्काशीदार जाली से कब्रों का शांति से अवलोकन करते हुए एक चक्कर लगाकर, ताज के दूसरे कमरों से होते हुए बाहर निकल आते है । यहाँ से पूरा ताज परिसर, मीनारे, नक्काशीदार गुम्बद, मस्जिद, बगीचे और ताज के पीछे यमुना नदी के साथ-साथ मेहताब बाग का बड़ा ही खूबसूरत और विहंगम नजारा नजर आता है । यहाँ ताजमहल की खूबसूरती के अवलोकन करते हुए हर कोई अपने आप में खो ही जाता है और काफी समय कब बीत गया उसका पता ही नहीं चलता है । यहाँ से मुख्य गुम्बद के देखने बाद उसी रास्ते से वापिस हो जाते है । जूता स्टैंड से जूते-चप्पल लेने बाद कुछ समय यहाँ के बगीचों में और परिसर के विभिन्न कोने से ताजमहल देखने में बिताया जा सकता है । उसके बाद से ताजमहल से उसी दरवाजे से वापिस जा सकते जहाँ से आये थे

अपनी ताजमहल की यात्रा के दौरान मुझे ताजमहल के काफी फोटो लेने का मौका मिला । आपके अवलोकनार्थ ताजमहल के कुछ फोटो नीचे लगा रहा हूँ आप भी लीजिए ताजमहल की खूबसूरती का मजा

A Yamuna View behind The Tajmahal (ताजमहल के ठीक उत्तरी दिशा में बहती यमुना नदी का सुन्दर नजारा )
The Tajmahal, Agra

The Tajmahal, Agra ( ताजमहल का एक अलंकृत दरवाजा, जो कब्रों तक जाता है )

Pride of India The Tajmahal , Agra (भारत की शान ....ताजमहल , आगरा )
The Tajmahal, Agra ( बगीचे से लिया का ताजमहल का एक फोटो  )
A Mosque aside of The Tajmahal (ताजमहल के दाये तरफ की मस्जिद )

Beautiful Design at Tajmahal, Agra (मुख्य गुम्बदपर एक नक्काशीदार जाली )

A View from Tajmahal (ताजमहल से एक नजारा )

Taj Campus View, Tajmahal, Agra ( चबूतरे से दिखाई दिखाई देता सुन्दर ताज परिसर )



इस प्रकार आगरा के ताजमहल की हमारी सैर यही समाप्त होती और इस श्रृंखला ( कुछ पल आगरा से ) के इस लेख को यही समाप्त करते है अगले लेख में आप सभी ले चलेंगे आगरा के फिर किसी नए स्थान पर ....तब तक के लिए धन्यवाद !
 ऑनलाइन खरीदारी के लिए मेरे इस पेज पर जाए → Shopping 
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬     
Table of Contents  → कुछ पल आगरा से श्रृंखला के लेखो की सूची :      
2. ताजमहल (TAJMAHAL) → विश्व की एक खास धरोहर (कुछ पल आगरा से ......2)
3. लालकिला (Red Fort, Agra) → आगरा की एक और विश्व धरोहर (कुछ पल आगरा से ......3)  
4. एत्माद्दौला, आगरा → Itmad-ud-Daulah (Baby Taj), Agra ( कुछ पल आगरा से....... 4 ) 
5. अकबर का मकबरा (Akbar Tomb, AGRA) → बादशाह का आरामगाह (कुछ पल आगरा से ....... 5)
6. ताज नेचर वॉक (Taj Nature Walk,AGRA)→प्रकृति से ताज के दर्शन (कुछ पल आगरा से ....... 6)   
7. महताब बाग ( Mehtab Bagh )→ मुगलकालीन खूबसूरत बाग (कुछ पल आगरा से ......7) 
8. कीठम झील सूर सरोवर पक्षी विहार..Keetham Lake, Runkata,Agra (कुछ पल आगरा से ......7)  
 
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

22 comments:

  1. वाह ताज,,बहुत उम्दा तस्वीरें,,,बधाई रीतेश जी,,,

    RECENT POST : तड़प,

    ReplyDelete
  2. tajmahal to hamne bhi dekha hai lekin aapke camere ki nazar se ye bahut khoobsurat dikh raha hai ..

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर लगा ताज का यह रूप ...जल्दी ही हमें और भी जानकारी मिलेगी ...

    ReplyDelete
  4. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. आपके चित्रों की गुणवत्ता व सुंदरता में बहुत निखार आता जा रहा है

    ReplyDelete
  6. If you can increase the size of fotos more (say 860x600)...they will look more magnificent

    ReplyDelete
  7. सुंदर प्रस्तुति ...चित्र बहुत सुंदर हैं ॰

    ReplyDelete
  8. beautifully pictur for Taj ...Thanks for sharing ritesh bhai

    ReplyDelete
  9. टिप्पणी के लिए आप सभी हृदय से धन्यवाद !

    Thanks for Liking & Commenting....

    ReplyDelete
  10. Great post with super likable pics, dear Ritesh. Have you noticed the Trishool on the main dome of Taj? Shahjahan could not change it after forcibly acquiring this great building from Rajputs to convert it into a maqbara. :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks Sushant ji.... आपका यहाँ तक आने और कम्मेंट के लिए धन्यवाद | नोटिस तो है...की दूर से त्रिशूल जैसा नजर आता है...पर हकीकत में शूल पर चाँद का चिन्ह है बीच में....आप ध्यान से देखोगे तो नजर आयेगा........

      Delete
  11. Very nice photos of the Taj Mahal.

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्दर, वैभवपूर्ण...क्या शानदार यात्रा कर रहे हो जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय जी...

      Delete
  13. वाह ! ताज की सुंदर तस्वीरों से सजी सुंदर आलेख!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राकेश जी..

      Delete
  14. Very informative post. Thanks a lot

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शर्मा जी

      Delete
  15. I read your full blog and it was very informative, and helped me a lot. I always look for blog like this on the internet with which I can enhance my skills, day trip to agra

    ReplyDelete

ब्लॉग पोस्ट पर आपके सुझावों और टिप्पणियों का सदैव स्वागत है | आपकी टिप्पणी हमारे लिए उत्साहबर्धन का काम करती है | कृपया अपनी बहुमूल्य टिप्पणी से लेख की समीक्षा कीजिये |

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Ad.

Popular Posts